कांग्रेस सरकार ने किया किसानों से दोबारा धोखा

 कांग्रेस सरकार ने किया किसानों से दोबारा धोखा

चंडीगढ़: शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि कांगे्रस सरकार ने किसानों को 90 हजार करोड़ रुपए की राहत देने के वायदे के पश्चात महज 167 करोड़ रुपए की फसली कर्जा माफी देकर किसानों से दोबारा धोखा किया है। यहां जारी बयान में उन्होंने कहा कि सबसे अफसोसजनक यह है कि मालवा क्षेत्र के जिन 5 जिलों में कर्जा माफी की यह जाली स्कीम लागू की गई है वहां 70 प्रतिशत छोटे और सीमांत किसानों को इस स्कीम के लिए अयोग्य करार दे दिया गया है। इस समूची कार्रवाई में चहेतों को खुश किया गया है। कांग्रेसी विधायकों और हलका इंचार्जों ने अपने घरों में बैठकर कर्जा माफी के लाभपात्रों की सूचियां तैयार की हैं। ज्यादातर असली हकदारों को स्कीम के घेरे से बाहर निकाल दिया गया है।
सुखबीर ने कहा कि इस राहत के लिए राशि भी किसानों पर टैक्स लगाकर जुटाई गई है। मार्कीट फीस बढ़ाने के अलावा सरकार ने गेहूं और धान पर 1 प्रतिशत सैस लगाया है। इस टैक्स वाली रकम को गिरवी रखकर कर्जा उठाया गया है। सुखबीर ने कहा कि  अकाली-भाजपा सरकार के कार्यकाल दौरान 10 साल के लिए 6 हजार करोड़ रुपए प्रति वर्ष के हिसाब से किसानों के 60 हजार करोड़ रुपए के ट्यूबवैलों के बिल माफ कर दिए गए थे। अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि कै. अमरेंद्र सिंह ने सहकारी, राष्ट्रीय बैंकों और आढ़तियों से लिए कर्जों के लिए 90 हजार करोड़ रुपए की कर्जा माफी का वायदा किया था। इस वायदे को पूरा करने की बजाय गांव में कर्जदार किसानों के नामों की सूचियां लगाकर उनका निरादर किया जा रहा है। उन्हें कर्जों के ब्याज की अदायगी नहीं हुई है। छोटे और सीमांत किसान सबसे अधिक तकलीफ में हैं। खेत मजदूरों को पूरी तरह बाहर निकाल दिया गया है। सड़कों की मुरम्मत के लिए किए जा रहे पैच वर्क पर उन्होंने कहा कि कितने आश्चर्य की बात है कि सरकार सड़कों पर पैच वर्क करने के काम का ऐलान पूरे पन्ने के इश्तिहारों के जरिए कर रही है। 
 

संबंधित ख़बरें