सोमवार का है व्रत तो करे इन मंत्रों को उच्चारण, होगा बेड़ा पार

 सोमवार का है व्रत तो करे इन मंत्रों को उच्चारण, होगा बेड़ा पार

हिंदू धर्म में कोई भी पूजा मंत्र उच्चारण के बिना अधूरी मानी जाती है। इसलिए पूजन में मंत्रों का जाप करना महत्वपूर्ण माना जाता है। खासकर अगर बात शिव पूजा की हो तो माना जाता है कि यदि व्य़क्ति भोलेनाथ की पूजा न भी कर सक तो केवल शिव मंत्रों से ही इसका पूरा फल प्राप्त कर सकता है। इसके अलावा व्यक्ति यदि सोमवार का व्रत करता है तो मंत्रों के साथ पूजा करने से वह भगवान शिव की कृपा का पात्र बन जाता है।
नामावली मंत्र
शिवजी को प्रसन्न कर उनकी कृपा पाप्ति के लिए सोमवार की पूजा के दौरान इन नामवली मंत्रों का उच्चारण करें तथा उसके उपरांत या दिन में किसी भी समय 108 बार इनका जाप अवश्य करें। अगर पूरे माह नियमित रूप से सुबह और शाम इनका 108 बार जाप करें तो और भी अच्छा है। पूजा के पश्चात भगवान शिव के इन नामावली मंत्रों के साथ उनका ध्यान करना शिव जी को प्रसन्न करता है।
।। श्री शिवाय नम: ।। 
।। श्री शंकराय नम: ।। 
।। श्री महेशवराय नम: ।। 
।। श्री सांबसदाशिवाय नम: ।। 
।। श्री रुद्राय नम: ।। 
।। ॐ पार्वतीपतये नमः ।। 
।। ॐ नमो नीलकण्ठाय ।।
पंचाक्षरी मंत्र और शिव गायत्री मंत्र
भगवान शिव को प्रसन्न करने का स्बसे सरल उपाय है पंचाक्षरी मंत्र “ॐ नम: शिवाय” का जाप। इसके अलावा “ॐ” को सृष्टि का सार माना जाता है। श्रावण में केवल इसके जाप मात्र से भी शिवजी प्रसन्न होते हैं। इसके अलावा शिव गायत्री मंत्र का जाप सभी मनोकामनाएं पूर्ण करता है।
शिव गायत्री मंत्र- ।। ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्रः प्रचोदयात ।।
शिव नमस्कार मंत्र
पूजा से पूर्व इस मंत्र का उच्चारण करते हुए भगवान शिव का ध्यान करें: "नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शन्कराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिवतराय च।। ईशानः सर्वविध्यानामीश्वरः सर्वभूतानां ब्रम्हाधिपतिर्ब्रम्हणोधपतिर्ब्रम्हा शिवो मे अस्तु सदाशिवोम।।"
 

संबंधित ख़बरें