आधार का डाटा लीक होने के बाद सरकार का बड़ा फैसला

आधार का डाटा लीक होने के बाद सरकार का बड़ा फैसला

नई दिल्ली: आधार कार्ड को लेकर सरकार ने एक अहम फैसला लिया है। सरकार द्वारा 16 अंकों का दूसरा आधार लाए जाने की घोषणा की गई है। आधार का डाटा लीक होने के बाद सरकार ने ये बड़ा फैसला लिया है। अब पहचान के लिघ्ए 12 अंकों के आधार की बजाए 16 अंकों की एक नई वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल होगा। सूत्रों के मुताबिक, यह आधार की जगह ले  लेगा।
यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने गुरुवार को दो स्तर का एक सुरक्षा नेट तैयार किया है। इसके तहत हर शख्स की एक वर्चुअल आईडी बनाई जाएगी और आधार आधारित केवाईसी को सीमित किया जाएगा। सभी एजेंसियां 1 जून तक इस सिस्टम को अपना लेंगी। गौरतलब है कि अंग्रेजी अखबार ट्रिब्यून द्वारा ये खबर छापी गई थी कि 500 रुपए देकर 10 करोड़ लोगों के आधार की जानकारी हासिल की जा सकती है लेकिन ने इन खबरों को गल्त बताया था। यूआईडीएआई ने इस रिपोर्ट से इनकार कर दिया है। यूआईडीएआई ने आश्वासन दिया है कि यह डाटा पूरी तरह से सुरक्षित है। कुछ दिन पहले ही अमेरिकी व्हिसल ब्लोअर एडवर्ड स्नोडेन ने चेतावनी दी थी कि आधार डाटाबेस का मिसयूज किया जा सकता है। स्नोडेन ने यह बात ऐसे वक्त पर कही है जब आधा डाटा की सुरक्षा को लेकर कई तरह की खबरें आ रही हैं। इस बयान से एक दिघ्न पहले यह खबर आई थी कि महज 500 रुपए में आधार डाटा उपलब्घ है। इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए यूआईडीएआई ने कहा कि उनका सिस्टम पूरी तरह सिक्योर है और इसके मिसयूज को तुरंत पकड़ा जा सकता है। अथॉरिटी ने अपने बयान में कहा था कि, बायोमीट्रिक डाटाबेस से डाटा चोरी का कोई मामला सामने नहीं आया है, यह पूरी तरह सुरक्षित है। सर्च फैसिलिटी पर उपलब्ध जानकारी के बिना बायोमीट्रिक्स का दुरुपयोग नहीं किया जा सकता। यूआईडीएआई ने कहा था कि आधार नंबर कोई सीक्रेट नंबर नहीं है और आधार होल्डर की मर्जी पर किसी सेवा या सरकारी वेलफेयर स्कीम्स का फायदा लेने के लिए इसे अधिकृत एजेंसियों के साथ साझा किया जाता है। 
 

संबंधित ख़बरें