कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भवानी शंकर शर्मा का निधन

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भवानी शंकर शर्मा का निधन

बीकानेर: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राजस्थान खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष भवानी शंकर शर्मा का आज यहां ह्रदय गति रुकने से निधन हो गया। वह 75 वर्ष के थे। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार वह ह्रदय रोग से पीड़ित थे। सुबह सीने में दर्द की शिकायत पर उनके घर चिकित्सक को बुलाया गया। उसके कुछ ही देर बाद सुबह करीब दस बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। उनकी अंत्येष्टि अपरान्ह चार बजे की जायेगी। उनके निधन की खबर से राजनीतिक हल्कों, पत्रकारिता जगत और साहित्य के क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। वर्ष 1940 में जन्मे शर्मा छात्र जीवन से ही सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय रहे। उन्होंने अपने करियर की शुरूआत राजस्थान के प्रमुख अखबार राजस्थान पत्रिका और राष्ट्रदूत में पत्रकार के रूप में की। वर्ष 1970 में वह राजनीति से जुड़ गये और 1981 से 85 तक नगर विकास न्यास के अध्यक्ष रहे। 1990 में जिला प्रमुख और वर्ष 1999 से लेकर 2003 तक वह पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कार्यकाल में राजस्थान खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष रहे। 2008 में वह बीकानेर नगर निगम के प्रथम निर्वाचित महापौर चुने गये। आजीवन राजनीति में सक्रिय होने के बावजूद वह शांतचित्त और सादगी के लिये जाने जाते थे। उनकी सादगी और विन्रमता के विरोधी दल भी कायल थे। उनके निधन पर केन्द्रीय राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर डूडी, विधायक डॉ. गोपाल जोशी, भंवर सिंह भाटी, सिद्धि कुमारी, मानिकचंद सुराना, किसनाराम नाई, पूर्व मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला, देवीसिंह भाटी, वीरेन्द्र बेनीवाल सहित कई राजनेताओं और पत्रकारों ने शोक व्यक्त किया।
 

संबंधित ख़बरें