ट्रिपल तलाक बिल को संसदीय समिति के पास भेज सकती है मोदी सरकार

ट्रिपल तलाक बिल को संसदीय समिति के पास भेज सकती है मोदी सरकार

नई दिल्ली: राज्यसभा में आज एक बार फिर से तीन तलाक बिल पर चर्चा होने की संभावना है। मोदी सरकार को राज्यसभा में इसे पास करवाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ रहा है। सदन की कार्रवाई आज शुरू होते ही सभी राजनीतिक दलों ने महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव घटना की एक स्वर में निंदा की और लोगों से शांति बनाने की अपील की लेकिन अधिकांश विपक्षी सदस्यों ने इस घटना की उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की। हंगामे के चलते सन की कार्रवाई स्थगित कर दी गई। 4.30 बजे एक बार फिर से कार्रवाई शुरू होगी।
उम्मीद जताई जा रही है कि तब तीन तलाक पर चर्चा होगी। वहीं सूत्रों के मुताबिक उच्च सदन में तीन तलाक पर विपक्ष की सहमति नहीं बनने पर अब केंद्र सरकार इसे एक संसदीय समिति के पास समीक्षा के लिए भेजने के लिए राजी हो गई है। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि सरकार के इस कदम के बाद अब यह बिल राज्यसभा में भी पास हो जाएगा। सूत्रों के मुताबिक अब पहले समिति का गठन किया जाना होगा, और फिर वह समिति विधेयक की समीक्षा कर बिल में बदलावों को लेकर सुझाव देगी। लोकसभा में यह बिल पास हो चुका है, तब विपक्ष ने भी सरकार का साथ दिया था लेकिन राज्यसभा में आते ही कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों का रुख बदल गया है। विपक्ष अपने इस रुख पर कायम है कि बिल में तमाम खामियां हैं और उसको सलेक्ट कमेटी के पास भेजी जाने की सख्त जरूरत है। सरकार बिल को किसी भी हालत पर पास करवाना चाहती है क्योंकि इसके पास सिर्फ 2 दिनों का समय है। दरअसल शीतकालीन सत्र 5 जनवरी को खत्म हो रहा है। उससे पहले सरकार को जरूरी जीएसटी संशोधन बिल भी पास कराना है, जो लोकसभा में पास हो चुका है।
 

संबंधित ख़बरें