पर्यटकों से मारपीट पर विदेश मंत्रालय सख्त, लखनिया दरी पहुंचे एडीजी

पर्यटकों से मारपीट पर विदेश मंत्रालय सख्त, लखनिया दरी पहुंचे एडीजी

जिले के अहरौरा नगर के समीप स्थित लखनिया दरी जल प्रपात में तीन दिन पूर्व आए विदेशी पर्यटकों के साथ छेड़खानी और मारपीट के मामले की बुधवार को एडीजी वाराणसी विश्वजीत महापात्रा ने जांच की। उन्होंने पर्यटन स्थल पर सुरक्षा व्यवस्था, पुलिस की कमी व स्थानीय स्तर पर चूक की गहन समीक्षा की। 
प्रसिद्ध पर्यटन स्थल पर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम नहीं किए जाने तथा संकेतक नहीं होने पर एडीजी ने नाराजगी जतायी। एसपी मिर्जापुर को सुरक्षा व्यवस्था में सुधार के साथ भविष्य में पर्यटकों के साथ घटना की पुनरावृति न हो, इसके लिए निर्देशित किए। मीडिया से उन्होंने बताया कि जांच रिपोर्ट शासन के माध्यम से विदेश मंत्रालय को भेजी जाएगी। अहरौरा नगर के समीप लखनिया दरी और चूना दरी हर साल बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंचते है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता निहारते ही बन ती है। तीन दिन पूर्व वाराणसी से  आए छह की संख्या में फ्रांस के पर्यटक व छह उनके वाराणसी के साथी लखनिया दरी पहुंचे थे। विदेशी पर्यटकों के साथ मनचलों ने छेड़खानी के साथ मारपीट की थी। मामले में आठ आरोपितों को गिरफ्तार करके जेल भेजा जा चुका है। इसके बाद विदेश मंत्रालय के घटना की रिपोर्ट तलब करने पर शासन के निर्देश पर एडीजी विश्वजीत महापात्रा लखनिया दरी पहुंचकर मौका मुआयना किए। स्थानीय स्तर पर विभागीय चूक कहां हुई इसकी वस्तुस्थिति जानी। 
सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर लखनिया दरी और चूना दरी जाने वाले रास्ते पर पीएसी और पुलिस की तैनाती करने का निर्देश दिए। खतरनाक स्थानों को चिह्नित करके संकेतक बोर्ड व निशान लगाने को निर्देशित किया। इससे पहले उन्होंने एसपी आशीष तिवारी और अहरौरा थाने की पुलिस से घटना के संबंध में पूरी जानकारी तलब की। एडीजी ने बताया कि जांच रिपोर्ट शासन के माध्यम से विदेश मंत्रालय को भेजी जाएगी। यहां की वस्तुस्थिति से भी प्रदेश व केंद्र सरकार को अवगत कराया जायेगा।
लखनिया दरी में तैनात होगी पीएसी 
एडीजी विश्वजीत महापात्रा ने पर्यटन स्थल लखनिया दरी पर सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर सुबह दस बजे से शाम छह बजे तक पीएसी और पुलिस तैनात करने निर्देशित किया। पर्यटन स्थल पर मोबाइल टॉवर नहीं मिलने की समस्या शासन को पत्र लिखकर अवगत कराया जायेगा। मोबाइल टॉवर की समस्या दूर होने तक यहां तैनात पीएसी व पुलिस कर्मियों हैण्डसेट के साथ तैनात रहेंगे। ताकि तत्काल अहरौरा थाने की पुलिस को किसी भी घटना की जानकारी दी जा सके। 
खतरनाक स्थानों पर संकेतक लगाने के निर्देश 
पर्यटन स्थल लखनिया दरी और चूना दरी के जंगल क्षेत्र में वन विभाग, पाषाण विभाग और सिंचाई विभाग की ओर से कोई संकेतक बोर्ड नहीं लगाये जाने पर एडीजी विश्वजीत महापात्रा ने पर्यटकों की सुरक्षा में बड़ी चूक मानी। उन्होंने एसपी आशीष तिवारी से संबंधित विभागों के अधिकारियों को पत्र लिखकर संबंधित क्षेत्र के खतरनाक स्थानों को चिह्नित करके संकेतक बोर्ड लगाने तथा निशान बनाने को निर्देशित किए।