फिर सामने आई सीएम केजरीवाल और कुमार विश्वास की दूरियां!

फिर सामने आई सीएम केजरीवाल और कुमार विश्वास की दूरियां!

नई दिल्ली: राज्यसभा टिकट बंटवारे को लेकर जहां वरिष्ठ नेता व जाने-माने कवि कुमार विश्वास ने बगावती तेवर अख्तियार कर रखते हैं तो वहीं आम आदमी पार्टी उन्हें भाव देने के मूड में नहीं दिख रही। गणतंत्र दिवस के मौके पर लाल किला मैदान में होने वाले कवि सम्मेलन के लिए इस बार हिंदी अकादमी ने कुमार विश्वास को न्यौता तक नहीं भेजा है। आप सरकार के कार्यकाल में हुए बीते 2 सम्मेलनों में कुमार विश्वास बतौर गेस्ट बुलाए गए थे, लेकिन इस बार उन्हें कोई निमंत्रण नहीं पहुंचा। इस संबंध में मंगलवार को कुमार विश्वास ने कहा कि यह उनके लिए कोई विशेष मुद्दा नहीं है। सरकार के कवि-सम्मेलनों में उनकी कोई रुचि नहीं रही है, लेकिन जब से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनी है, तब से अधिकारी और अकादमी सदस्यों ने उन्हें प्रेमपूर्वक कमोबेश हर कार्यक्रम में अतिथि रूप में बुलाया है। हिंदी अकादमी के अलावा उर्दू अकादमी, संस्कृत अकादमी, मैथिली-भोजपुरीव पंजाबी अकादमी ने भी उन्हें कार्यक्रमों में आमंत्रित किया है। उन्होंने कहा कि इस बार परिस्थितिया ऐसी हैं कि सरकार की हिम्मत नहीं है कि उन्हें श्रोता के रूप में भी सहन कर सके। आप सरकार में हिंदी अकादमी द्वारा तीसरी बार राष्ट्रीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें देशभर से 21 कवि हिस्सा लेने पहुंचेंगे। कवि सम्मेलन का उद्घाटन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल करेंगे। आपको बतां दे कि आप नेता कुमार विश्वास इन दिनों अपनी पार्टी और पार्टी नेता अरविंद केजरीवाल से खुश नहीं है। राज्यसभा की उम्मीदवारी नहीं मिलने के बाद से कुमार ने पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कुमार विश्वास चैनल चैनल घूम-घूमकर अरविंद और पार्टी को लेकर अपनी बात रख रहे हैं। 

संबंधित ख़बरें