सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने हेतु 1000 मेगावाट क्षमता के सौर पावर क्रय हेतु बिड आमंत्रित

सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने हेतु 1000 मेगावाट क्षमता के सौर पावर क्रय हेतु बिड आमंत्रित

लखनऊ। प्रदेश में सौर ऊर्जा को बढ़ावा देनें के लिये 1000 मेगावाट क्षमता के सौर पावर क्रय हेतु टैरिफ आधारित ई-बिड का आमंत्रण किया गया है। बिडिंग प्रक्रिया का सम्पादन सौर ऊर्जा नीति 2017 के क्रियान्वयन हेतु नामित नोडल ऐजेन्सी यूपीनेडा द्वारा किया जायेगा। विगत 8 जनवरी 2018 को ई-बिड का आमंत्रण किया गया है और बिड खोलने की तिथि 7 फरवरी 2018 है। 1000 मेगावाट क्षमता से उत्पादित सौर पावर का क्रय यू0पी0पी0सी0एल0 द्वारा 25 वर्ष हेतु किया जायेगा। इस 1000 मेगावाट क्षमता की सौर पावर परियोजना की स्थापना से प्रदेश में 5000 करोड़ का निवेष आना सम्भावित है। यह जानकारी देते हुये मंत्री बृजेश पाठक (अतिरिक्त ऊर्जा स्त्रोत) ने बताया है कि प्रदेश सरकार सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिये लगातार ऐतिहासिक कदम उठा रही है। इसी क्रम में प्रदेश की सौर ऊर्जा नीति 2017 लागू की गयी है। इस नीति के अन्तर्गत वर्ष 2022 तक लगभग 10700 मेगावाट क्षमता की सौर ऊर्जा से विद्युत उत्पादन परियोजनाओं की स्थापना का लक्ष्य है। जिसमें से 6400 मेगावाट क्षमता के यूटीलिटी स्केल ग्रिड संयोजित सौर पावर परियोजना की स्थापना का लक्ष्य है।
 

संबंधित ख़बरें