स्टूडेंट्स बैलेंस बना के करें एग्जाम की तैयारी, आसानी से मिलेगी सफलता

स्टूडेंट्स बैलेंस बना के करें एग्जाम की तैयारी, आसानी से मिलेगी सफलता

सीबीएसई की ओर से हॉल में ही बोर्ड परीक्षाओं के लिए डेटशीट जारी कर दी गई है। 10वीं और 12वीं क्लास के एग्जाम 5 मार्च से शुरु होगें। ऐसे में छात्रों को एग्जाम के बाद प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए काफी कम समय मिलेगा। क्योंकि आमतौर पर इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सेज में दाखिले की लिए आयोजित की जाने वाली ज्यादातक प्रवेश परीक्षाएं अप्रैल या मई में ली जाती है। एेसे में स्टूडेंट्स दोनों की तैयारी में बैलेंस बनाए रखने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। एेसे  में अगर आप भी परेशानी में है तो आइए जानते है कुछ एेसे टिप्स के बारे में जिन्हें अपना कर आप आसानी से दोनों एग्जाम की तैयारी की जा सकती है।
पहले बोर्ड की परीक्षाओं पर रखें ध्यान 
उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए बोर्ड परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करना बेहद जरूरी है। इसलिए स्टूडेंट्स के लिए पहली प्राथमिकता बोर्ड की परीक्षाएं होनी चाहिए। कई बार ऐसा देखा गया है कि कई छात्रों ने जेईई की परीक्षा तो पास कर ली लेकिन बोर्ड परीक्षा में अच्छे नंबर लाने में सफल नहीं हुए। जनवरी और फरवरी के महीने में बोर्ड की परीक्षाओं के पैटर्न और करिकुलम के अनुसार पढ़ाई करें। ज्यादातर प्रवेश परीक्षाओं में बोर्ड का सिलेबस होता है इसलिए बोर्ड परीक्षा की बेहतर तैयारी से प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी स्वंय ही हो जाएगी।
सुबह करें कठिन विषय की तैयारी 
आमतौर पर यहू माना जाता है कि सुबह-सुबह का समय पढ़ने के लिए सबसे अच्छा होता है। इस समय पढ़ी गई चीजें ज्यादा याद रहती हैं। कई अध्ययनों के मुताबिक सुबह पढ़ी गई चीजें छात्रों को लंबे समय तक याद रहती हैं। 
पढ़ाई के दौरान ब्रेक लें 
लगातार ज्यादा देर तक पढ़ाई करने से मन उबने लगता है और दिमाग की चीजों को समझने की लिमिट भी खत्म होने लगती है। ऐसे में पढ़ाई के बीच-बीच में रेगुलर ब्रेक लेना बेहद जरूरी है। इस ब्रेक के दौरान हल्के-फुल्के जर्नल या न्यूजपेपर पढ़ने की कोशिश करें। इससे पढ़ाई करने का आपका फ्लो भी बना रहेगा और न्यूजपेपर पढ़ने से आपका जनरल अवेयरनेस भी बढ़ेगा जो प्रवेश परीक्षाओं के दौरान आपके काम आएगा। इस ब्रेक के बाद जब आप दोबारा पढ़ाई करना शुरू करेंगे तो आपको चीजें जल्दी समझ में आएंगी।
टाइम टेबल बनाएं 
सिर्फ पढ़ाई के मामले में ही नहीं जीवन के हर मोड़ पर सुव्यवस्थित रहना और अपनी प्राथमिकताओं के बारे में पता रखना बेहद जरूरी है। हर विषय की कठिनाई के स्तर को ध्यान में रखते हुए टाइम टेबल बनाए ताकि किसी विषय में आप पीछे न रह जाएं। टाइम टेबल के अनुसार पढ़ाई पूरी करने की कोशिश करेंगे तो आप पाएंगे कि आपको रीविजन करने का ज्यादा समय मिलेगा।
टेंशन ना लें 
आमतौर पर पढ़ाई से पहले कई स्टूडेंट्स एग्जाम की वजह से काफी टेंशन में आ जाते लेकिन, तनाव को दिमाग पर हावी न होने दें। आसपास लोगों से बातचीत करते रहें। अपने आप को तनावमुक्त करने के लिए बीच-बीच में पावर नैप (छोटी नींद) भी ले सकते हैं। परीक्षा के डर को अपने ऊपर हावी न होने दें और हमेशा याद रखें कि आपने परीक्षा के लिए अपनी तरफ से पूरी तैयारी की है।
 
 

संबंधित ख़बरें