विविध

  • गलत समय पर दूध पीना सेहत पर पड़ सकता है भारी

    दूध पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। दूध में अधिक मात्रा में कैल्शियम होता है, जो हमारी शरीर और हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है। दूध के सेवन से शरीर में कई तरह के पोषक तत्वों की पूर्ति की जा सकती है। इसके अलावा हर उम्र के लोगों के लिए दूध पीना बहुत फायदेमंद रहता है। लेकिन अगर बात की जाए पुरुषों की तो उनके लिए दूध पीना काफी लाभप्रद होता है। दूध पीने से पुरुषों में शरीर के लिए जरूरी विटामिन्स और मिनरल्स की पूर्ति होती है। साथ ही हड्डियां, बालों और मसल्स को मजबूती भी मिलती है। लेकिन क्या आपको पता है दूध पीने का सही समय क्या है। रात में सोने से कुछ देर पहले दूध पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। यह न सिर्फ सेहत को लाभ पहुंचाता है, बल्कि इससे पाचन क्रिया भी सही रहती है। रात में दूध पीने के फायदे

  • खून के अशुद्ध और पतले होने की समस्या को घरेलू नुस्खो से करें दूर

    इस भागदौड़ जिंदगी में किसी के पास अपने उपर ध्यान देने का भी समय नहीं है। आपके गलत लाइफस्टाइल के कारण खून खराब होने लगता है, जिससे आप कई तरह की बीमारियों का शिकार हो जाते है। खून शरीर में ऑक्सीजन पहुंचा के आपके स्वस्थ रखने में मदद करता है। खून का अशुद्ध होना, रक्त के थक्के जमना या खून गाढ़ा होने पर आप कई बड़ी बीमारियों का शिकार हो जाते है। यह समस्याएं होने पर चेहरे पर फोड़े-फुंसी निकलना, थकान, पेट में समस्या और लगातार वजन कम होना जैसे लक्षण दिखाई देते है। आप खून की इन समस्याओं को दवाइयों की बजाए कुछ घरेलू नुस्खों से बिना किसी नुकसान के दूर कर सकते है। आइए जानते है खून पतला होने या अशुद्ध होने की समस्याओं को दूर करने के घरेलू उपचार। रक्त विकार के कारण अनुवांशिक कमजोर लीवर हार्मोन बदलाव गलत आहार डायबिटीज

  • Bloating से हैं परेशान तो आज ही शुरू करें ये काम

    ब्लोटिंग यानि पेट फूलना, जिससे पेट का आकार बढऩे लगता है।  इसे पेट की सूजन भी कहते हैं। सामान्य तौर पर ऐसा खाना खाने के बाद महसूस होता है। यह समस्या तब आती है जब छोटी आंत के अंदर गैस भर जाती है। इसका सीधा संकेत पाचन क्रिया में गड़बड़ी भी है। वैसे तो इसे आम समस्या समझा जाता है लेकिन नजरअंदाज करने पर यह बीमारी गंभीर भी बन सकती है। इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे लाइफस्टाइल में गड़बड़ी,हार्मोनल असंतुलन ,बासी भोजन का सेवन,पेट में पानी या फ्लूइड का भर जाना, कब्ज, ज्यादा देर तक भूखे या फिर कई घंटे एक ही जगह पर बैठे रहना,पीरीयड्स आने पर होने वाले शारीरिक बदलाव भी पेट के फूलने का कारण बनते हैं। इसके अलावा दवाइयों का अधिक सेवन या और भी बहुत से कारण हैं जो ब्लोटिंग की वजह हैं। इससे सेहत पर भी बहुत बुरा असर पड़ता है, इससे छुटकारा पाने के लिए सही लक्षणों को पहचानना बहुत

  • महाशिवरात्रि पर ऐसे करें शिवजी का अभिषेक, हर कामना होंगी पूरी

    महादेव को भोलेनाथ भी कहा जाता है, क्योंकि तुरंत और तत्काल प्रसन्न होने वाले देवता हैं, इसलिए उन्हें आशुतोष भी कहा जाता है। वैसे तो भगवान शिव को प्रसन्न करने तरह-तरह से उनका पूजन अर्चन किया जाता है मगर भगवान शिव को प्रिय चीजों को अर्पित करने से भोलेनाथ हर कामना पूरी करते हैं। भगवान शिव का अभिषेक तो वैसे हर रोज ही किया जाना चाहिए मगर सावन के महीने और शिवरात्रि पर उनका अभिषेक करने पर उसका पुण्य कई गुना अधिक मिलता है। भगवान शिव के अभिषेक में जिन चीजों का उपयोग किया जाता है उनका अपना अलग महत्व है.............. दूध का महत्व  माना जाता है कि शिवजी को दूध चढ़ाने से हर तरह की मानसिक परेशानी खत्म होती है। ज्योतिष में इसे चंद्रमा से जुड़े दोष दूर करने का सबसे सटीक उपाय माना गया है। चावल का महत्व  अक्षत

  • शिवरात्रि 2018: भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए करें ये शास्त्रीय उपाय

    शिवरात्रि भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए सर्वोत्तम दिन माना जाता है। भगवान शिव ही एकमात्र ऐसे देव हैं जो भक्तों की थोड़ी सी भक्ति पर प्रसन्न हो जाते हैं। महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव का विवाह माता पार्वती के साथ हुआ था।पुराणों के अनुसार महाशिवरात्रि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को होती है। इस बार महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त 13 फरवरी (मंगलवार) की रात 10 बजकर 22 मिनट से प्रारंभ होकर अगले दिन यानि 14 फरवरी (बुधवार) की रात्रि 12 बजकर 17 मिनट तक रहेगी।शिवरात्रि पर इस बार कुछ शास्त्रीय उपायों को करने से जीवन की सभी परेशानियों का हल हो सकता है। शिव भक्तों को इस दिन शिव को प्रिय इन उपायों को अवश्य करना चाहिए। शादी के लिए भोलेनथ इतने भोले हैं कि वे अपने भक्तों पर बहुत जल्द प्रसन्न हो जाते हैं। यदि शादी में अड़चन आ रही है तो शिवरात्रि के दिन श

  • Shivratri Special: ये है वो जगह जहां मौजूद है 108 शिव मंदिर

    शिवरात्रि का त्यौहार आने में अब कुछ ही समय बचा है। यह दिन शिव भगतों के लिए बहुत खास होता है। महादेव को खुश करने और मनचाहा वर मांगने के लिए इस दिन लोग व्रत रखकर उनकी पूजा करते हैं। वैसे तो भारत के कौने-कौने में भगवान शिव के मंदिर हैं लेकिन एक जगह पर महादेव के 108 छोटे-बड़े मंदिर हैं। इस जगह को शिव नगरी भी कहा जाता है। अगर आप भी इस शिवरात्रि पर माउंट आबू यानि शिव नगरी के मंदिरों में जाना चाहते हैं। तो आज हम आपको वहां के प्रसिद्ध 5 मंदिरों के बारे में बताएंगे जिनका इतिहास 5000 साल पुराना है। 1. अचलगढ़ महादेव के इस अनोखे मंदिर में शिंवलिंग की नहीं, बल्कि उनके अगूठें की पूजा की जाती है। जिस पानी से शिव के अगूठें का अभिषेक किया जाता है वह पानी भी एक रहस्य है। वहीं पहाड़ी के तल पर 15वीं शताब्दी में बने अचलेश्वर मंदिर में भगवान शिव के पै

  • रोज खाएंगे बादाम तो पास नहीं आएंगी ये बीमारियां

    बादाम एक ऐसा ड्राईफ्रूट है जो सिर्फ किसी भी खाने को लजीज़ बनाने में ही नहीं बल्कि कई बीमारियों से बचाने में भी बेहद कारगर साबित होता है. सर्दियों में बादाम खाने की सलाह आपको बचपन से दी जाती होगी, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपके क़रीबी आखिर क्यों बादाम को आपकी दिनचर्या में शामिल करने की सलाह देते हैं. परेशान होने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि यहां हम आपको उन सारी ख़ूबियों के बारे में बताएंगे, जिसकी वजह से आप अपनों की बादाम खाने की सलाह को न नहीं कह पाएंगे. बादाम आपकी आंखों, बालों के लिए बेहतर नहीं बल्कि आपके पूरे शरीर के लिए ज़रूरी होता है. बादाम मुख्य तौर पर जम्मू-कश्मीर में पाया जाता है. ये दो तरह का होता है पहला स्वीट और दूसरा विटर स्वीट. स्वीट बादाम ज़्यादातर खाने में इस्तेमाल करने के लिए प्रयोग होता है जबकि विटर स्वीट का इस्तेमाल तेल बनाने में किया जाता है.

  • शुक्रवार को करे लक्ष्मी पादुका की पूजा, व्यापार में होगा लाभ

    आज गुरुवार दि॰ 09.02.18 को फाल्गुन कृष्ण नवमी पर ध्रुव योग और वाणिज्यीकरण पड़ने के कारण लक्ष्मी पूजन करना विशेष लाभकारी रहेगा। फाल्गुन माह के शुक्रवार और वाणिज्यकरण में विशेष लक्ष्मी पूजन करने का विशिष्ट महत्व है। फाल्गुन में श्रीदेवी के सौभाग्य लक्ष्मी स्वरूप का पूजन करना श्रेष्ठ रहता है। इस पूजन में लक्ष्मी की ऐसी मूर्ति व चित्र लगाना चाहिए जिसमें वह कमल पर विराजमान हो व उनके हाथ में कमल हो, आभूषणों से अलंकृत हो, जिन्हें चार श्वेत हाथी स्वर्ण कलशों के जल से स्नान करा रहे हों। फाल्गुन माह के शुक्रवार को संध्या के समय बुध का नक्षत्र जेष्ठा पड़ने से इस की महत्वता बढ़ जाती है। शुक्रवार को विधि-विधान से सौभाग्य लक्ष्मी का पूजन कर घर के द्वार पर दीप जलाने का विधान है। फाल्गुन में सौभाग्य लक्ष्मी को प्रत्येक शुक्रवार अलग-अलग पकवानों का भोग लगाया जाता है। आज के दिन लक्