विविध

  • फिट रहने के लिए करे वर्कआउट, जाने सही तरीका

    फिटनेस कॉन्शस लोग डेली वर्कआउट तो करते हैं, लेकिन कई बार इससे संबंधित जरूरी बातों पर ध्यान नहीं देते हैं। इस वजह से मनचाहा परिणाम उन्हें नहीं मिल पाता है। ऐसे में जरूरी है कि वर्कआउट से संबंधित उन जरूरी बातों के बारे में सारी जानकारी रखी जाए। इस बारे में फिटनेस ट्रेनर सुकांत दास जानकारी दे रहे हैं। यह तो सब जानते और मानते हैं कि हमें रोज एक्सरसाइज करनी चाहिए। लेकिन इसे लेकर अक्सर कई तरह के सवाल मन में उमड़ते रहते हैं। आइए जानते हैं, कितने समय के लिए और कैसे वर्कआउट करना सही है? कितनी देर करें वर्कआउट चाहे महिला हो या पुरुष, किसी भी व्यक्ति को औसतन 1 घंटे तक व्यायाम करना चाहिए। योग, एरोबिक, कार्डियो या किसी भी तरह की एक्सरसाइज उम्र और वजन के हिसाब से फिटनेस एक्सपर्ट तय करते हैं। सप्ताह में कितने दिन

  • मोर पंख का है विशेष महत्व, इस तरह करता है नव ग्रह व वास्तु दोष को दूर

    हिंदू धर्म में मोर पंख का विशेष महत्तव है। श्रीकृष्ण को भी मोर पंख अधिक प्रिय है। इनके मुकुट पर मोर पंख सदैव सजा रहता है इसलिए ही मोर पंख को बहुत ही पवित्र माना जाता है और कलियुग में भी इसको बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार मोर के पंखों में सभी देवी-देवताओं और सभी नौ ग्रहों का वास होता है। ऐसा क्यो है इसके बारे में धर्म ग्रंथों में कथा का वर्णन किया गया है। जो इस प्रकार है- प्रचलित कथाओं के अनुसार भगवान शिव ने मां पार्वती को पक्षी शास्त्र में वर्णित मोर के महत्व के बारे में बताया है। प्राचीन काल में संध्या नाम का एक असुर हुआ करता था। वह बहुत शक्तिशाली और तपस्वी असुर था। गुरु शुकाचार्य के कारण संध्या देवताओं का शत्रु बन गया था। संध्या असुर ने कठोर तप कर शिवजी और ब्रह्मा को प्रसन्न कर लिया था। ब्रह्माजी और शिवजी प्रसन्न होने से उसको

  • बुधवार को करें ये उपाय, मिलेगा अपार धन-संपत्ति

    बुद्धि व धन की प्राप्ति के लिए बुधवार का दिन बहुत श्रेष्ठ है। ये दिन भगवान गणेश और बुध ग्रह को समर्पित है। इस दिन इनकी खास कृपा प्राप्त की जा सकती है। शास्त्रों के अनुसार बुध दोष शांति एवं भगवान गणेश को खुश करने के लिए कुछ खास उपाय किए जाने चाहिए। श्री गणेश को मोदक का भोग लगाकर पूजन करने से  बुद्धि कुशाग्र होती है, सुख-सफलता की राहें बनती हैं।  ऊँ बुं बुधाय नम: मंत्र का कम से कम एक माला जाप स्फटिक की माला से करें। हरे रंग की वस्तुओं का दान करें। इसके अतिरिक्त घी, कांसा, कर्पूर व मिश्री का दान करें। गौ माता का पूजन करें। उन्हें रोटी में गुड़ रख कर अपने हाथ से खिलाएं या हरा चारा और गुड़ खिलाएं। भगवान गणेश को सिंदूर का चोला अर्पित करें और दूर्वा की माला तथा गुड़ के लड्डू का भोग लगाएं। बुधवार को सुबह शुद्ध होकर क

  • खास योग, मोतीचूर के लड्डू से हर संकट होंगे दूर

    कल दिनांक 23 जनवरी 2018 को मंगलवार के दिन सूर्य का नक्षत्र उतरा भाद्रपद पड़ने से विशेष शिव योग बन रहा है तथा उसके बाद सिद्ध योग भी बन रहा है। तैतिलय करण और गज करण के कारण इस दिन विशेष रूप से सूर्य के शिष्य हनुमान जी का पूजन करना शुभ रहेगा। शास्त्रों में हनुमान जी को सूर्य का शिष्य बताया है। इसी संदर्भ में गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित एक चौपाई के अनुसार हनुमान जी ने अपनी बाल अवस्था में सूर्य को फल समझ कर खा लिया था। जिससे उनको तेज ताप चढ़ गया था इसी कारण सूर्य और हनुमान जी का आपस में बहुत गहरा नाता है। सूर्य जगत की आत्मा और भगवान शंकर का नेत्र कहलाते हैं। शास्त्रों में स्वंय हनुमान जी को शंकर जी का 11वां रूद्रावतार बताया है। सूर्य का नक्षत्र होने के कारण इस दिन विशेष रूप से हनुमान जी को मोतीचूर का लड्डू चढ़ाना चाहिए क्योंकि यह एक गोल फल का प्रतीक है। जिसे

  • ये है वो मंदिर जहां पुरुषों के जाने से है मनाही

    अक्सर हम सुनते हैं कि भारत में एेसे कई मंदिर है जहां स्त्रियों का जाना वर्जित है, जहां स्त्रियां का पूजा करना सख्त मना है। लेकिन एेसा नहीं है कि भारत में एेसे नियम सिर्फ महिलाओं का लिए ही बने हुए है। देश में कई एेसे भी मंदिर है जहां स्त्री नहीं बल्कि पुरुषों को जाने से मनाही हैं। तो आईए जानें भारत के उन मंदिरों के बारें में जहां पुरुषों को प्रवेश और पूजा की इजाजत नहीं है।  सावित्री मंदिर (पुष्कर) राजस्थान के पुष्कर तीर्थ में ब्रह्माजी की पत्नी देवी साव‌ित्री का एक मंद‌िर है, जो रत्नाग‌िरि पर्वत पर स्‍थ‌ित है। इस मंद‌िर में ‌स‌िर्फ मह‌िलाओं को प्रवेश को अध‌िकार है, पुरुषों को इस मंद‌िर में प्रवेश करने की मनाई है। इसका कारण यह बताया जाता है कि ब्रह्माजी ने पहले से ही एक पत्

  • एड़ी का दर्द सताए तो करें यह उपाय

    पैरों की एडियों में दर्द हो तो चलना-फिरना भी मुश्किल हो जाता है। ऐसा देर तक खड़े रहने से या ऊंची एड़ी के सैंडन पहनने से होता है। इसे समस्या से छुटकारा पाने के लिए दवाइयों के अलावा घरेलू उपचार भी किया जा सकता है। सिर्फ एक उपाय से इस दर्द से राहत पाई जा सकती है। आइए जानें... सामग्री 1 पीस नौशादर 1/2 चम्मच एलोवेरा 1/2 चम्मच हल्दी पाऊडर इस्तेमाल की तरीका एक बर्तन में एलोवेरा जैल डालकर धीमी आंच पर  गर्म करें। इसमें नौशादर और हल्दी डालें। जब यह पानी छोड़ने लगे तो इसे थोड़ा गुनगुना होने पर रूई से (जितना सह सकें)एडियों पर लगा लें। इसे कपड़े के साथ बांध लें। इसे रात को प्रयोग करें। लगातार 30 दिनों तक इस्तेमाल से आराम मिलेगा।   

  • BSNL ऑफर, 249 रुपए में मिलेगा अनलिमिटेड डेटा

    भारत संचार निगम लिमिटेड ने अपने डेटा दरों में कटौती करते हुए सस्ती दरों में अनलिमिटेड इंटरनेट देने की पेशकश की है। भारत संचार निगम के इस प्लान में ग्राहकों को केवल 249 रुपए में महीने भर अनलिमिटेड इंटरनेट की सुविधा मिलेगी। आपके बता दें कि भारत संचार निगम का ये प्लान ब्रॉडबैंड उपभोक्ताओं के लिए है। BB249 ब्रॉडबैंड प्लान में ग्राहक को 249 रुपये में 5 जीबी तक 8 Mbps तक स्पीड मिलेगी। 5 जीबी डेटा खत्म होने के बाद 1 Mbps की स्पीड में इंटरनेट एक्सेस कर सकेंगे और ये अनलिमिटेड होगा। 31 मार्च तक चलेगा ऑफर ये BB249 ब्रॉडबैंड प्लान 31 मार्च 2018 तक उपलब्ध है। ये जम्मू-कश्मीर और एंडमान निकोबार को छोड़कर हर सर्किल के बीएसएनएल यूजर्स के लिए उपलब्ध होगा। यहां खास बात ये है कि ये नए ब्रॉडबैंड कस्टमर्स को ही मिलेगा। यानी अगर आप पहले से बीएसएनएल यूज

  • वसंत पंचमी 2018: देवी सरस्वती को अर्पित करें चीजें...

    22 जनवरी को वसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाएगा। हर साल माघ शुक्ल पंचमी को मां सरस्वती की पूजा होती है। वसंत पंचमी को मां सरस्वती के प्रगट होने का दिन माना जाता है। ज्ञान और बुद्ध‌ि की देवी सरस्वती से अगर आप भी ज्ञान और अच्छी याददाश्त पाना चाहते हैं तो देवी सरस्वती की पूजा करते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाह‌िए और पूजा में देवी सरस्वती की प्र‌िय 5 वस्तु भेंट करनी चाह‌िए। देवी सरस्वती को पीले और सफेद रंग के फूल पसंद है जो बसंत के मौसम में आसानी से उपलब्‍ध हो जाते हैं। आपको इन फूलों से देवी की पूजा करनी चाह‌िए। देवी की प्रसन्नता के ल‌िए आप गेंदे और सरसो के पुष्प अर्प‌ित कर सकते हैं। मां सरस्वती को बूंदी का प्रसाद बहुत प्र‌िय होता  है। बूंदी पीले रंग की होती है और यह गुरू से संबंध‌ित वस्तु भी है जो ज