राजनीती

  • डोकलाम विवाद पर राजनाथ सिंह ने चुप्पी तोड़ी , दिया बड़ा बयान

    गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने डोकलाम विवाद पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि डॉकलाम में एक गतिरोध था लेकिन हमने बातचीत के माध्यम से इस मुद्दे को हल कर लिया है। अब भारत और चीन के बीच सकारात्मक दृष्टिकोण है। राजनाथ सिंह ने भारतीय सीमा पर आईटीबीपी के जवानों के साथ शस्त्र पूजा कर दशहरे का पर्व मनाया। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि जल्द ही ऐसा समय आएगा जब हम सीमा विवादों को संवाद से सुलझा सकेंगे।

  • किसी भी अभियान की सफलता के लिए जनभागीदारी जरूरी- पीएम

    नई दिल्‍ली: भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण  जेटली ने बैठक के बारे में जानकारी देते हुए पत्रकारों को बताया कि प्रधानमंत्री ने पार्टी और राजनीति से पहले देश की जनता को सर्वाेपरी बताया है. प्रधानमंत्री ने आतंक के खिलाफ लड़ाई पर भी बात रखी. उन्होंने कहा कि विदेशी आतंकी भारत में आए जिन्हें मारा गया. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में जो भी पकड़ा जाएगा वह बचेगा नहीं. उन्होंने साफ कहा कि मेरा कोई रिश्तेदार नहीं है. सरकार की कई योजनाओं पर पीएम ने अपनी बात रखी. आधार पर जो बचत हुई है इसके बारे में उन्होंने विस्तार से चर्चा की. सरकार की योजनाओं को रखते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में हर टॉयलेट के बाहर लिखा गया है 'इज्जत घर'. लोगों की भाषा में इस प्रकार से कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने का प्रयास किया गया है. स्वास्थ्य योजना में टीकाकरण की योजना को जनभागीदारी से आ

  • दीनदयाल उपाध्याय ऊर्जा भवन का प्रधानमंत्री दिल्ली में करेंगे लोकार्पण

    प्रधानमंत्री यहां दिल्ली में दीनदयाल उपाध्याय ऊर्जा भवन का लोकार्पण करेंगे (फाइल फोटो) नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शाम दीनदयाल ऊर्जा भवन का लोकार्पण किया. इस दौरान उन्होंनें हर घर को बिजली देने देने की घोषणा करते हुए सौभाग्य योजना का ऐलान किया. इस योजना के तहत गरीबों को मुफ्त में बिजली के कनेक्शन दिए जाएंगे.इस योजना का पूरा नाम 'प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना' है. इसके तहत 31 मार्च, 2019 तक हर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. सोमवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी मनाई गई. इस मौके पर पीएम ने ओएनजीसी के दीनदयाल ऊर्जा भवन को राष्ट्र का समर्पित किया. इस मौके पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे. इस योजना के तहत बिजली कनेक्शन के लिए 2011 की सामाजिक, आर्थिक और जाति जनगणना के आधार पर पहचान की जाएगी. जो जनग

  • मुकुल रॉय छोड़ेंगे TMC, दुर्गा पूजा के बाद राज्यसभा से देंगे इस्तीफा

    तृणमूल कांग्रेस सांसद मुकुल रॉय ने सोमवार को ऐलान किया कि वह दुर्गा पूजा के बाद राज्यसभा से इस्तीफा दे देंगे. मुकुल रॉय इसी के साथ ही पार्टी से भी इस्तीफा दे देंगे. उन्होंने पार्टी की वर्किंग कमेटी से इस्तीफा दे दिया है. मुकुल रॉय के राज्यसभा का कार्यकाल 2018 में खत्म होगा.इस ऐलान के बाद टीएमसी ने भी मुकुल राय को 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है. पार्टी नेता पार्था चटर्जी ने इसकी जानकारी दी. गौरतलब है कि मुकुल रॉय टीएमसी के बड़े नेता हैं और उनका पार्टी से इस्तीफा देना ममता बनर्जी के लिए बड़ा झटका हो सकता है. इस्तीफे का ऐलान के बाद मुकुल रॉय ने कहा कि वह दुर्गा पूजा के बाद इस बात से खुलासा करेंगे कि आखिर उन्होंने पार्टी क्यों छोड़ी. गौरतलब है कि राज्यसभा सांसद मुकुल रॉय पार्टी में नंबर-2 की हैसियत रखते हैं. हालांकि शारदा चिटफंड घोटाले में रॉय का नाम

  • तेजस्वी यादव से सुशील मोदी ने कहा- बंगला खाली करो

    पटना: बिहार में एक सरकार बंगला इन दिनों विवाद का कारण बना हुआ है. यह विवाद के तेजस्वी यादव और सुशील मोदी के बीच. दरअसल, पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव को आवंटित बंगले को आगे भी जारी रखे जाने की गुहार को राज्य सरकार ने खारिज कर दिया है. इसके बाद वर्तमान उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बिना कोई 'क्षति' पहुंचाए बंगला जल्द खाली करने को कहा है. बिहार की पिछली महागठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे तेजस्वी को 5 देशरत्न मार्ग का बंगला आवंटित था जिसे अब गत जुलाई महीने में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नीत राजग की नई सरकार में उपमुख्यमंत्री बनाए गए सुशील मोदी को आवंटित किया है. नीतीश सरकार ने गत सप्ताह तेजस्वी के उस गुहार को खारिज कर दिया था, जिसमें उन्हें आवंटित बंगला को आगे भी जारी रखने की मांग की गई थी. सुशील ने सोमवार को पत्रकारों से कहा कि पूर्

  • एक्सपर्ट का मानना है कि, उम्मीदों पर पूरी तरह खरी नहीं उतरी बीजेपी की सरकार

    लखनऊ. योगी सरकार ने 19 मार्च 2017 को बड़े धूमधाम से पीएम मोदी की मौजूदगी में शपथ ली थी। अब 19 सितम्बर 2017 को योगी सरकार के छह महीने कम्प्लीट हो रहे हैं। इस मौके पर 6 सीनियर पॉलिटिकल जर्नलिस्ट नवीन जोशी, दिलीप अवस्थी, अतुल चंद्रा, ज्ञानेन्द्र शर्मा, सुनील दुबे और ब्रजेश शुक्ला से बात की। जिन्होंने बताया कि जनता को चुनावों के दौरान बीजेपी की सरकार से जितनी उम्मीद थी वह पूरी तरह से उस पर खरी नहीं उतरी है। सांप्रदायिक एकता में कमी आई... - सीनियर जर्नलिस्ट नवीन जोशी कहते हैं कि योगी सरकार आने के बाद सांप्रदायिक एकता में कमी आई है।  - उन्होंने कहा कि अब योगी सरकार प्रदेश में हिन्दू एजेंडा लागू कर रही है। सीएम खुद आक्रामक बयान दे रहे हैं। अभी हाल ही में योगी ने कहा था, 'गोली के बदले गोली मिलेगी। अगर एक पक्ष शांत रहेगा तो दूसरा पक्ष भी शांत रहेग

  • अमित शाह ने कहा कि, मोदी ने भारत का आर्थिक एकीकरण शुरू कर दिया है

    नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सरदार पटेल और बीआर अंबेडकर के समकक्ष रखते हुए कहा कि पटेल ने देश का क्षेत्रीय एकीकरण किया था, अंबेडकर ने सामाजिक एकीकरण किया था और अब मोदी ने भारत का आर्थिक एकीकरण शुरू कर दिया है. प्रधानमंत्री के 67वें जन्मदिन के अवसर पर उनकी प्रशंसा करते हुए शाह ने कहा कि मोदी का जीवन कई मायनों में भारत की विचारधारा का साकार रूप है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की गरीबों की आकांक्षाओं के प्रति संवेदनशीलता के चलते ही गरीबी उन्मूलन के ऐतिहासिक कदम उतने बड़े स्तर पर आकार ले रहे हैं, जिसके बारे में भारत के इतिहास में कभी सुना ही नहीं गया. शाह ने कहा कि मोदी सरकार में ईमानदार करदाताओं, जिनमें अधिकतर मध्यम वर्ग से ताल्लुक रखते हैं, को लगता है कि कालेधन और भ्रष्टाचार पर नोटबंदी और बेनामी संपत्ति कानून जैसे

  • अमर सिंह ने कहा- मोदी में कोई बुराई दिखाई देगी तो उनकी आलोचना भी करेंगे

    इंदौर: वरिष्ठ नेता अमर सिंह ने शनिवार को कहा कि वे बीजेपी में शामिल होने की किसी पेशकश से इनकार नहीं करेंगे लेकिन उन्होंने बीजेपी से जुड़ने के लिए कोई प्रार्थना पत्र भी नहीं दिया है. समाजवादी पार्टी से निष्कासित सिंह ने इंदौर में एक फिल्म के विशेष शो में शामिल होने के दौरान संवाददाताओं से कहा, "बीजेपी बहुत बड़ा दल है. मैं यह नहीं कहूंगा कि यदि मुझे अवसर मिलेगा, तो मैं बीजेपी में नहीं जाऊंगा. लेकिन मुझे यह अवसर दे कौन रहा है. मैंने यह अवसर हासिल करने के लिए कोई प्रार्थना पत्र भी नहीं दिया है." अमर सिंह ने एक सवाल पर कहा कि उन्हें यदि मोदी में कोई बुराई दिखाई देगी, तो वे उनकी आलोचना भी करेंगे. लेकिन इस तथ्य को कौन नकार सकता है कि प्रधानमंत्री की मां और उनके नजदीकी ​रिश्तेदार आज भी आम नागरिकों की तरह जीवन-यापन करते हैं और सरकारी अस्पतालों में इलाज कराते