हेल्थ

  • बुढ़ापे वाली कमजोरी का खतरा बढ़ जाता है सिगरेट पीने से

    आजकल युवाओं में सिगरेट पीने वालों की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी होती जा रही है। बहुत से लोग ऐसे हैं जो सिगरेट छोड़ना भी चाहते हैं, लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद वो अपने इस कोशिश में असफल हो जाते हैं। सिगरेट का धुआं उसे पीने वाले को तो नुकसान पहुंचाता ही है, साथ ही साथ आस-पास के लोगों की सेहत के लिए भी काफी नुकसानदेह होता है। इन सबके अलावा एक ताजा शोध में यह बात भी सामने आई है कि सिगरेट पीने से बुढ़ापे वाली कमजोरी का खतरा 60 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। सिगरेट की लत न छोड़ने की वजह से बुढ़ापे में होने वाली शारीरिक कमजोरी की समस्या थोड़ी जल्दी आ सकती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि स्मोकिंग की वजह से कई तरह की बीमारियां शरीर में दस्तक देती हैं। इन बीमारियों में पल्मोनरी संबंधी बीमारियां, कोरोनरी हर्ट डिसीज, स्ट्रोक तथा नाड़ी संबंधी बीमारियां शामिल हैं। इन बीमारि

  • याद्दाश्त को बेहतर बनाने के लिए वरदान है ब्राह्मी

    आयुर्वेद में हर तरह की बीमारी का संपूर्ण ईलाज मौजूद है। प्राकृतिक औषधियों के प्रयोग से कई तरह के असाध्य रोगों को साधने में आयुर्वेद ने सफलता पाई है। इन्हीं प्राकृतिक औषधियों में से एक औषधि है ब्राह्मी। ब्राह्मी को ‘ब्रेन बूस्टर’ के नाम से भी जाना जाता है। यह गीली मिट्टी में अपने आप उगती है। इसमें छोटे-छोटे पर्पल या फिर सफेद फूल भी लगते हैं, जिनमें ज्यादा से ज्यादा पांच पंखुड़ियां होती हैं। फूलों सहित यह पौधा गुणकारी औषधि के रूप में प्रयोग में लाया जाता है। ब्राह्मी याद्दाश्त बढ़ाने का बेहतरीन निदान है। यह दिमाग के तीनों पहलुओं शॉर्ट टर्म मेमोरी, लांग टर्म मेमोरी और याद्दाश्त को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आज हम ब्राह्मी के कई अन्य फायदों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। 1. ब्राह्मी कोर्टिसोल के स्तर

  • मांसपेशियां की होगी मजबूत कैंची कूद से

    कैंची कूद या सीज़र्स जंप्‍स एक नए तरह का एक्सरसाइज है। इसे कैंची कूद इसलिए कहते हैं क्योंकि इसे करते समय शरीर के हवा में होते समय दोनों पैरों को क्रौस कर बदला जाता है। और ये प्रक्रिया करते समय कैंची की तरह लगती है। इस एक्सरसाइज को सीजर्स किक के नाम से भी जाना जाता है। यह एथलीटों और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ाने और टोन्ड मांसपेशियों की चाहत रखने वाले लोगों के लिये कमाल की एक्सरसाइज होती है। इसे करने के लिये किसी प्रकार की उपकरण आदि की आवश्यकता नहीं होती है और सामान्य फिटनेस वाले लोग भी इसे कर सकते हैं। तो चलिये विस्तार से जानें कैंची कूद कैसे करते हैं और इसके फायदे क्‍या हैं। एक्‍सरसाइज का तरीका सीज़र्स जंप्‍स आमतौर पर किए जाने वाले लंज जंप का ही एक अलग रूप होता है। इस करने के लिए आपको सीधे खड़े होकर पैरों को थोड़ा फै

  • बार-बार जम्हाई आने का जाने कारण....

    जम्हाई लेना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन थोड़ी थोड़ी देर में जम्हाई लेना कई बातों की ओर इशारा करता है। अक्सर लोग जम्हाई लेने को नींद से जोड़ देते हैं। कई लोगों का ऐसा मानना होता है जम्हाई लेने का मतलब है कि आपको नींद आ रही है या फिर आपकी नींद पूरी नहीं हुई लेकिन आज हम आपको जम्हाई लेने की वो वजह बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आपको पता नहीं होगा।  तनाव बनता है वजह तनाव भी जम्हाई की एक वजह बनती है। कहा जाता है कि तनाव बढ़ने पर दिमाग का तापमान बढ़ता है ऐसे में जम्हाई आती है। ऐसा करने से हमें ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा मिलती है जिससे दिमाग को शांति मिलती है। फेफड़े से संबंधित परेशानी दिमाग में ऑक्सीजन का बहाव कम और जब कार्बन डाईऑक्साइट की मात्रा अधिक होती है तो फेफड़े से संबंधित परेशानी हो सकती है। ऐ

  • आपकी सेहत पर भारी पड़ सकता है 'एनर्जी ड्रिंक' का ज्यादा इस्तमाल

    किसी भी चीज का ज्यादा इस्तेमाल आपकी सेहत पर भारी पड़ सकता है ये तो आपने कई बार सुना होगा लेकिन हाल ही में हुई रिसर्च में जिस चीज का खुलासा हुआ है वो आपको हैरान कर देगा। एनर्जी ड्रिंक और नशीली चीजों के इस्तेमाल से सेहत में आने वाले विभिन्न बदलावों पर रिसर्च की।इस रिसर्च में उन्हें इस बात का पता चला कि जिन लोगों ने नियमित रूप से कैफीन युक्त एनर्जी ड्रिंक का इस्तेमाल किया और इसे लंबे समय तक जारी रखा उनके कोकीन और अन्य नशीले वस्तुओं का इस्तेमाल करने की संभावना आने वाले समय में अधिक बढ़ गई। अध्ययन के नतीजों से यह पता चलता है कि एनर्जी ड्रिंक लेने वाले लोगों में अन्य नशीली वस्तुएं लेने का खतरा बढ़ सकता है।  

  • मुंह के छालों से छुटकारा पाने के लिए जाने ये तरीका

    मुंह में छाले होने की वजह से काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है। ऐसे में आप जब कुछ भी खाते हैं तो जलन होने के साथ दर्द भी होता है। शरीर में पौष्टिकता की कमी,पीरिड्स, हार्मोन का संतुलन बिगड़ना, पेट साफ न होना आदि की वजह से मुंह में छाले हो जाते हैं। अगर आपको आए-दिन इस तकलीफ का सामना करना पड़ता है तो जानें इनसे छुटकारा पाने के तरीके.. नियमित तौर पर आंवला खाने से मुंह में छाले नहीं पड़ते। यह विटमिन सी का सबसे अच्छा स्रोत है। इसमें मौजूद विटमिन सी संतरे के रस की तुलना में 20 गुना अधिक पाया जाता है।  विधि- सबसे पहले 1 चम्मच पिसे हुए आंवले में 1 बड़ा चम्मच शहद अच्छी तरह मिक्स कर लें। इस पेस्ट को मुंह के छाले पर लगाकर 15 मिनट के लिए छोड़ दें। यह उपाय एक हफ्ते तक रोज दिन में एक बार करें। मसालेदार, तला भूना खाना खाने से

  • ऑफिस के वर्क लोड को ऐसे करें दूर

    टारगेट पूरा करने का प्रेशर और बॉस की नाराजगी का ख्याल अगर आपकी भी रातों की नींद उड़ा रहा है तो ये उपाय आजमाकर आप अपनी मदद खुद कर सकते हैं।  क्या करना है, इसकी सूची बनाएं काम बहुत सारा है तो सबसे पहले एक लिस्ट बनाएं जिसमें आपको कौन-कौन से काम निपटाने हैं, क्या जरूरी है और क्या कम जरूरी है, यह सब एक जगह लिखें। इससे आपको प्लानिंग करने में आसानी होगी और जरूरी काम छूटेगा नहीं। किस काम को कितना समय देना है अब यह तय करें कि दिन में कौन से काम के लिए आपको कितना समय देना है। साथ ही, कौन सा प्रोजेक्ट कब पूरा करना है इसकी डेडलाइन भी तय करें। न सिर्फ काम करने बल्कि कितनी देर का आप ब्रेक लेंगे दिन में इसका भी समय निर्धारित करें। 'नहीं' कहना सीखें आप किसी जरूरी प्रोजेक्

  • मूली खाने से दूर होती है कई बीमारी

    भोजन में सलाद ही शोभा बढ़ाने वाली मूली न सिर्फ स्वाद बढ़ाती है बल्कि चुपके-चुपके आपके पेट का भी ध्यान रखती है। अगर आप भी पेट की समस्या से बेहद परेशान रहते हैं तो घर में मौजूद इस सब्जी का इस्तेमाल आज से ही शुरू कर दीजिए।  भोजन में सलाद ही शोभा बढ़ाने वाली मूली न सिर्फ स्वाद बढ़ाती है बल्कि चुपके-चुपके आपके पेट का भी ध्यान रखती है। अगर आप भी पेट की समस्या से बेहद परेशान रहते हैं तो घर में मौजूद इस सब्जी का इस्तेमाल आज से ही शुरू कर दीजिए।  मूली में मैग्नीज, जिंक, कॉपर, कैल्शियम, पोटेशियम और विटामिन ए, सी और बी 6 जैसे कई आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि मूली को कच्चा खाने की बजाय अगर असका रस पीया जाए तो ज्यादा फायदा होता है। ऐसा करने से इसके पोषक तत्व शरीर में आसानी से अवशोषित हो जाते हैं। मूली का रस आपके पाचन तंत्र को बढ़ाकर आपक